What is hosting? वेब होस्टिंग क्या होती है?

अगर आप अपने लिए नया ब्लॉग या वेबसाइट बनाने के बारे में सोच रहे हैं. तो, आपने होस्टिंग और डोमेन के बारे में जिक्र तो जरूर सुना होगा. डोमेन और होस्टिंग दोनों ही चीजें ब्लॉग या वेबसाइट बनाने के लिए काफी महत्वपूर्ण होती है. हमने अपने पिछले आर्टिकल में आप लोगों को डोमेन क्या होता है? इस बारे में जानकारी उपलब्ध कराई थी. आज हम यह जानेंगे कि What is hosting? वेब होस्टिंग क्या होती है?

डोमेन नेम (Domain name) की तरह ही वेब होस्टिंग (web hosting) नया ब्लॉग या वेबसाइट शुरू करने के लिए महत्वपूर्ण होता है. वेब होस्टिंग एक तरह का सर्वर होता है. जहां पर आपका वेबसाइट या ब्लॉग का डाटा सेव होता है. होस्टिंग की सहायता से आप अपने वेबसाइट को 24 × 7 ऑनलाइन रखते हो. जब भी कोई यूज़र इंटरनेट पर आपकी वेबसाइट को खोजता है या फिर आपके वेबसाइट पर आता है. सारी जानकारी एवं डाटा उसके ब्राउज़र पर इसी वेब सर्वर से अपलोड होती है.

What is domain? डोमेन क्या होता है? यह पढ़ने के लिए आप यहां पर क्लिक करें

आज हम यह जानेंगे कि, What is hosting? वेब होस्टिंग क्या होती है? इसके कितने प्रकार होते हैं? इसके साथ ही हम इस बात की भी चर्चा करेंगे कि अगर आप एक newbie है तो आपको कौन सी होस्टिंग लेनी चाहिए? अलग-अलग होस्टिंग में क्या अंतर होता है?

What is hosting? वेब होस्टिंग क्या होती है?

What is web hosting
वेब होस्टिंग क्या होता है?

किसी भी वेबसाइट को इंटरनेट पर 24 * 7 ऑनलाइन देखने के लिए वेब होस्टिंग (web hosting) की आवश्यकता होती है. वेब होस्टिंग एक तरह की सर्विस होती है. यह एक तरह से server के रूप में काम करता है. आपकी वेबसाइट की डाटा जैसे कि files, video, images, document इत्यादि चीजें वेब होस्टिंग पर ही सेव होती है.

जब भी कोई यूजर, इंटरनेट पर जब आपके वेबसाइट या ब्लॉग पर आता है तो जानकारी एवं डाटा और फाइल्स इसी वेब सर्वर से अपलोड होती है. वेब होस्टिंग (web hosting) एक प्रकार की सर्विस होती है. जो एक प्रकार से वेबसाइट या ब्लॉग को इंटरनेट पर अपलोड होने की सुविधा प्रदान करती है. इसी वजह से आप की वेबसाइट 24 * 7 ऑनलाइन रहती है.

हालांकि इस तरह की वेब सर्वर आप अपने कंप्यूटर पर भी सेटअप कर सकते हैं. लेकिन इसके रखरखाव एवं संचालन के लिए आपको टेक्निकल स्टाफ की आवश्यकता पड़ेगी. जिससे कि आपका वेबसाइट 24 घंटे ऑनलाइन रह सके. अपने खुद के घर में server को स्थापित करने में काफी ज्यादा लागत आता है. इसे मेंटेन करने के लिए भी आपको टेक्निकल हैंड की आवश्यकता होती है.

यही वजह है कि अधिकतर ब्लॉग या वेबसाइट के मालिक वेब होस्टिंग के लिए ऐसी कंपनियों का सहारा लेते हैं. जो इस तरह की सेवाएं प्रदान करते हैं. जिनके पास अपना खुद का powerful web server होता है. यह कंपनी वेब सर्वर का रखरखाव के साथ-साथ टेक्निकल स्टाफ भी रखते हैं. जिस वजह से वेब सर्वर 24 * 7 ऑनलाइन रहता है. वेब सर्वर में मौजूद वेबसाइट एवं डाटा 24 घंटे ऑनलाइन होती है. अगर इस पर किसी भी तरह की समस्या आती है तो कंपनी में मौजूद टेक्निकल स्टाफ इसका मेंटेन रखते हैं.

इसी तरह की कंपनी से हम वेब होस्टिंग (web hosting) लेते हैं. वेब होस्टिंग हम एक प्रकार से किराए पर लेते हैं. जिसके लिए हमें मासिक शुल्क या सालाना शुल्क अदा करना पड़ता है.

इंटरनेट की दुनिया में ऐसे कई सारे कंपनी है. जो वेब होस्टिंग सर्विस (web hosting service) मुहैया करवाती है. इनमें से कुछ कंपनियों के नाम निम्नलिखित हैं.

यह सारी कंपनियां आपको वेब होस्टिंग मुहैया करवाती है. इन कंपनियों के अलावा भी इंटरनेट पर आपको और भी कई सारी कंपनियां मिल जाएंगी. जो इस तरह की सेवा प्रदान करती है. जैसा कि हमने बताया इन सेवाओं के लिए आपको मासिक रूप से या सालाना शुल्क अदा करना पड़ता है.

What is blogging? ब्लॉगिंग क्या होती है? यह जानने के लिए आप यहां पर क्लिक करके पढ़ सकते हैं

वेब होस्टिंग कितने प्रकार के होते हैं? Types of web hosting

वेब होस्टिंग (web hosting) को उनके कार्य प्रणाली एवं क्षमता के अनुसार अलग-अलग प्रकार में बांटा जा सकता है. जोकि निम्नलिखित है

Types of web hosting
वेब होस्टिंग के प्रकार
  • Shared web hosting
  • Dedicated web hosting
  • VPS web hosting
  • Cloud web hosting

इस तरह से देखा जाए तो वेब होस्टिंग को आप चार भागों में बांट सकते हैं. हम नीचे इस बात की चर्चा करेंगे कि इन चारों वेब होस्टिंग में क्या अंतर होता है?. इसके साथ ही हम इस बारे में भी चर्चा करेंगे कि अगर आप अपने लिए एक नया वेबसाइट या ब्लॉग बनाने के बारे में सोच रहे हैं. और आप वेब होस्टिंग पर कौन सा वेब होस्टिंग आपको खरीदना चाहिए इस बारे में भी हम जिक्र करेंगे.

शेयर्ड वेब होस्टिंग क्या होती है? What is Shared web hosting?

शेयर्ड (shared) का अर्थ होता है साझा करना. इस सबसे आपको इसके बारे में थोड़ी बहुत समझ तो आ ही गई होगी. इस तरह की वेब होस्टिंग पर एक ही वेब सर्वर (web server) पर एक से ज्यादा वेबसाइट मौजूद होते हैं.

Shared web hosting
शेयर्ड वेब होस्टिंग

इसे समझने के लिए हम एक उदाहरण लेते हैं. मान लीजिए कि आप एक छात्र हैं. आप किसी बड़ी शहर में अध्ययन करना चाहते हैं. इसके लिए आपने एक बड़े से कॉलेज में दाखिला ले लिया है. वहां पर रहने के लिए आपको कमरे की आवश्यकता है.

इस शहर में किराए पर कमरा काफी महंगा होता है. इस वजह से आप किसी लॉज या हॉस्टल में कमरा लेते हैं. यहां पर एक ही कमरे में आपके साथ चार या पांच लोग आपके साथ में रहते हैं. इस तरह से देखा जाए तो आप उन लोगों के साथ अपना कमरा शेयर कर रहे हैं.

ठीक इसी प्रकार, व्यक्तिगत रूप से अगर कोई व्यक्ति अपने लिए अच्छा एवं बेहतर वेब होस्टिंग लेता है. तो उसे यह होस्टिंग महंगी पड़ती है. इसलिए शेयर्ड वेब होस्टिंग (shared web hosting) खरीदा है. जिसमें 1 से ज्यादा वेबसाइट होते हैं. जिसकी मासिक शुल्क भी कम होती है. आपको शेयर्ड वेब होस्टिंग के बारे में इस उदाहरण से थोड़ी बहुत जानकारी तो मिल ही गई होगी. आपको यह समझ में आ गया होगा कि शेयर्ड वेब होस्टिंग क्या होता है?

शेयर्ड वेब होस्टिंग (shared web hosting) पर मौजूद हर resource को आप अन्य वेबसाइट के साथ में साझा करते हैं. इस वजह से आपके वेबसाइट पर कभी-कभी अत्यधिक ट्रैफिक बढ़ जाने पर स्पीड कम होना जैसी समस्या भी आ सकती है. अगर शेयर्ड वेब होस्टिंग पर किसी वेबसाइट पर कोई समस्या आती है तो इसका प्रभाव आपकी वेबसाइट पर भी पड़ता है. और कभी कभी कुछ technical issues and error भी आ सकती है.

इसके पीछे यह वजह है कि आप जिस शेयर्ड वेब सर्वर का इस्तेमाल कर रहे हो उस वेब सर्वर का इस्तेमाल उस वेब सर्वर में मौजूद दूसरे वेबसाइट भी कर रहे हैं. जैसे कि उस वेब सर्वर में मौजूद space, RAM और CPU. यही वजह है कि यह दूसरे होस्टिंग के मुकाबले काफी सस्ता होता है.

किन को शेयर्ड वेब होस्टिंग (Shared web hosting) का इस्तेमाल करना चाहिए?

अगर आप अपने लिए शुरुआत में एक नया ब्लॉग या वेबसाइट बनाना चाहते हो. इसके साथ ही आपका बजट भी काफी कम है तो आप शेयर्ड वेब होस्टिंग ले सकते हैं. नए ब्लॉगर या वेबसाइट ओनर के लिए यह वेब होस्टिंग के फायदे और नया सीखने में उन्हें काफी मदद करती है.

यदि आप एक छोटा बिजनेस चला रहे हैं तो भी आप अपने लिए वेबसाइट बनाकर के शेयर्ड वेवहोस्टिंग का इस्तेमाल कर सकते हैं. इससे आपको फायदा है यह होगा कि आपको होस्टिंग के लिए ज्यादा पैसे खर्च नहीं करने पड़ेंगे. शेयर्ड वेब होस्टिंग में अपने वेबसाइट को होस्ट करना काफी आसान है. सैड वेब होस्टिंग की सहायता से आप बड़ी आसानी से वेबसाइट टूल (website tool) और plugins को आसानी से इंस्टॉल कर सकते हैं.

डेडीकेटेड वेब होस्टिंग क्या होता है? What is dedicated web hosting?

इस तरह के वेब होस्टिंग में वेबसाइट के मालिक का server के ऊपर पूरी तरह से कंट्रोल होता है. इस तरह के होस्टिंग में वेबसाइट या ब्लॉग के मालिक को अपने तरीके से सरवर को मेंटेन और उसकी फ्लैक्सिबिलिटी प्रदान की जाती है.

डेडीकेटेड वेब होस्टिंग में आप अपने तरीके से हर चीज को सेट कर सकते हैं. जैसे कि ऑपरेटिंग सिस्टम, हार्डवेयर कंपोनेंट और मेमोरी आदि.

डेडीकेटेड वेब होस्टिंग (dedicated web hosting) ऐसे वेबसाइट के लिए अच्छा है जिन पर ज्यादा ट्रैफिक आता है.

इसका के वेब होस्टिंग के सवर पर अधिकार एक ही व्यक्ति का होता है. इस तरह के होस्टिंग से कई सारे फायदे हैं. लेकिन यह वेब होस्टिंग दूसरे होस्टिंग की तुलना में काफी ज्यादा महंगा होता है. ऐसा इसलिए भी है क्योंकि पूरे server पर एक ही वेबसाइट को host किया जाता है.

इस तरह से देखा जाए तो डेडीकेटेड होस्टिंग से आपको काफी फायदा होता है. डेडीकेटेड होस्टिंग सर्वर के केवल आप ही की वेबसाइट को होस्ट किया जाता है. दूसरे और तीसरे यूजर के वेबसाइट को नहीं.

इस प्रकार की होस्टिंग में आपको काफी ज्यादा प्राइवेसी भी मिलती है. जिसका मतलब यही कि इसके resources को आप अपने मन मुताबिक सेट कर सकते हैं.

डेडीकेटेड होस्टिंग कैसे काम करता है? How dedicated hosting works? :- डेडीकेटेड वेब होस्टिंग भी दूसरे वेब होस्टिंग की तरह ही एक ही सिद्धांत पर कार्य करती है. वह यह कि वेबसाइट की जितनी भी फाइल्स जैसे कि images, video, files, documents इत्यादि चीजें वेब सर्वर (web server) पर Store रहती है.

जैसा कि हमने पहले भी बताया है. जब भी कोई यूज़र अपने वेब ब्राउजर पर आपकी वेबसाइट का यूआरएल URL डालेगा तो आपका सरवर उसकी इस रिक्वेस्ट के जवाब में आप की वेबसाइट की फाइल को उसके व्यवहार अवसर पर अपलोड करता है. जिससे कि उसकी वेबसाइट की फाइल उसके वेब ब्राउज़र पर दिखाई देती है.

शेयर्ड वेब होस्टिंग (shared web hosting) पर जहां एक से ज्यादा वेबसाइट की डाटा एवं फाइल स्टोर रहती है. वही डेडीकेटेड वेब होस्टिंग (dedicated web hosting) पर केवल एक ही वेबसाइट की फाइल्स स्टोर रहती है जिससे कि वेब सर्वर (web server) काफी तेजी से काम करता है. डेडीकेटेड वेब होस्टिंग पर आपकी यूजर और विजिटर को एक बहुत ही अच्छा यूजर एक्सपीरियंस मिलता है.

किन लोगों को डेडीकेटेड वेब होस्टिंग (Dedicated web hosting) लेनी चाहिए?

डेडीकेटेड वेब होस्टिंग (Dedicated web hosting) ऐसे ब्लॉग या वेबसाइट को लेना चाहिए जिनकी ट्राफिक बहुत ही ज्यादा है. ज्यादातर ऐसे बिजनेस वाले वेबसाइट जोकि e-store से संबंधित हो.

ज्यादा से ज्यादा लोग इस तरह के वेबसाइट पर आते हैं. इस तरह के वेबसाइट पर अधिक से अधिक लोग खरीदारी करते हैं. डेडीकेटेड वेब होस्टिंग में एक प्रकार से सरवर के मालिक एक ही व्यक्ति होता है. जिस वजह से आप अपने मन मुताबिक एंटीवायरस फायर बॉल इत्यादि जैसे सुरक्षा उपकरण आसानी से इंस्टॉल कर सकते हैं.

शेयर्ड होस्टिंग की तुलना में शेयर्ड होस्टिंग वाले वेबसाइट एक ही आईपी एड्रेस का इस्तेमाल करते हैं. जबकि डेडीकेटेड वेब होस्टिंग में आईपी एड्रेस का इस्तेमाल केवल आप ही कर पाओगे. जिससे sensitive transaction मे एक और security layer मिल जाता है. डेडीकेटेड वेब होस्टिंग के सेटिंग्स को आप घटाया बढ़ा भी सकते हैं. इसके अलावा आप अपने सर्वर को अपने हिसाब से configuration कर सकने में सक्षम होते हैं.

वीपीएस वेब होस्टिंग क्या होता है? What is VPS web hosting?

VPS को virtual private server भी कहा जाता है. इसके नाम से आपको थोड़ी बहुत समझ तो आ ही गई होगी कि आखिरी वर्चुअल प्राइवेट सर्वर क्या है?

डेडीकेटेड वैभव सिंह की तरह ही, VPS hosting भी होती है. लेकिन यहां पर आपको इस सर्वर को अपने मन मुताबिक शुरुआत में ही जब आप इसे खरीदते हो, इसकी कंपोनेंट्स, रिसोर्सेज, मेमोरी इत्यादि चीजों को तय कर सकते हो. जिससे आपको अपने मन मुताबिक एक वर्चुअल प्राइवेट सरवर मिल जाता है.

VPS hosting, को आप शेयर्ड और डेडीकेटेड होस्टिंग दोनों का मिश्रण समझ सकते हैं. यह सर्वर एक तरह से देखा जाए तो डेडीकेटेड सर्वर (dedicated server) होता है लेकिन यह वेब सर्वर वर्चुअल वेब सर्वर (virtual web server) होता है ना कि फिजिकल वेब सर्वर.

यहां पर एक सरवर को अलग-अलग कई सारे virtual server पर बांट दिया जाता है. एक वेबसाइट के लिए एक वर्चुअल सर्वर होता है और उस हिस्से पर सिर्फ एक ही व्यक्ति का अधिकार होता है.

इस तरह के वेब सर्वर पर शेयर्ड होस्टिंग (shared hosting) की तुलना में आपके वेबसाइट को अधिक जगह, computing power and bandwidth मिल जाती है. जिससे आपकी वेबसाइट को अधिक स्पीड से लोड हो जाता है.

अगर इसकी तुलना डेडीकेटेड वेब होस्टिंग से की जाए तो यह डेडीकेटेड वेब होस्टिंग से बेहतर तो नहीं होता. लेकिन शेयर्ड वेब होस्टिंग से अच्छा होता है. यदि आप वेबसाइट या ब्लॉग के मालिक हैं. और आपने शेयर्ड होस्टिंग से अपने ब्लॉगिंग के लिए की शुरुआत की है. तो आप, बाद में अपना होस्टिंग चेंज करके VPS hosting ले सकते हैं.

किन लोगों को VPS hosting का इस्तेमाल करना चाहिए?

छोटे ब्लॉग या वेबसाइट, जिनकी लोडिंग टाइम काफी कम है. वह भी VPS hosting का इस्तेमाल कर सकते हैं. अगर आपको लगता है कि आपकी वेबसाइट की लोडिंग स्पीड बहुत कम हो रही है. तो आप एक शेयर्ड होस्टिंग की तुलना में वीपीएस होस्टिंग का चुनाव कर सकते हैं.

क्लाउड होस्टिंग क्या होता है? What is cloud hosting?

अगर आपने कुछ इस तरह की वेबसाइट बनाई है जिस पर बहुत ही ज्यादा ट्रैफिक आता है. डेडीकेटेड सर्वर और VPS hosting के साथ भी आपके वेबसाइट को समस्या आती है. तो आप क्लाउड होस्टिंग का विकल्प का चुनाव कर सकते हैं.

डेडीकेटेड वेब होस्टिंग और वीपीएस वेब होस्टिंग पर आपको resources बहुत कम मिलता है यहां पर आपको स्टोरेज और के पास सिटी की भी लिमिट होती है. हालांकि, ज्यादातर ब्लॉग या वेबसाइट इस लिमिटेशंस (limitation) तक पहुंच नहीं पाते हैं लेकिन फिर भी कभी कबार कुछ कंटेंट अत्यधिक वायरल हो जाने के चलते अचानक से अगर आपके वेबसाइट पर ट्रैफिक बढ़ जाती है. जिसे हैंडल कर पाना मुश्किल होता है.

ऐसी समस्या पर आप क्लाउड होस्टिंग का सहारा ले सकते हैं. क्लाउड होस्टिंग में आपको एक ही सर्वर नहीं मिलती बल्कि कई सारे सरवर एक साथ मिलकर के आपकी वेबसाइट को होस्ट करते हैं. इंटरनेट की दुनिया में पिछले कुछ सालों में क्लाउड होस्टिंग बहुत ही ज्यादा पसंद किए जाने वाला वेब होस्टिंग है. जिस का चलन लगातार बढ़ते जा रहा है.

क्लाउड होस्टिंग पर आपकी वेबसाइट पर हाई वॉल्यूम ट्राफिक आने पर भी आपकी वेबसाइट की लोडिंग स्पीड कभी प्रभावित नहीं होती है. हालांकि क्लाउड होस्टिंग पर आप अपने मन मुताबिक डेडीकेटेड वेब होस्टिंग की तरह हर चीजों को कंट्रोल नहीं कर सकते हैं. नाही क्लाउड होस्टिंग के सर्वर की सेटिंग पर बदलाव कर सकते हैं. ना ही आप इस सर्वर पर अपने मन मुताबिक कोई सॉफ्टवेयर को इंस्टॉल कर सकते हैं.

लेकिन यदि आपके पास एक साधारण सी वेबसाइट है और उस पर ज्यादा से ज्यादा ट्राफिक आता है तो आप क्लाउड होस्टिंग का विकल्प ले सकते हैं.

क्लाउड होस्टिंग इन लोगों को लेना चाहिए?

ऐसे ब्लॉग या वेबसाइट के मालिकों को लेना चाहिए जिन की वेबसाइट पर ट्रैफिक अचानक से बढ़ जाता है. ट्राफिक अचानक से बढ़ जाने के चलते उनकी वेबसाइट का धीमा होना. वेबसाइट पर error आना जैसी समस्याओं का सामना करना पड़ता है.

क्लाउड होस्टिंग की सबसे अच्छी खूबी यह है कि आप अपने जरूरत के अनुसार डिस्क स्पेस और मेमोरी को भी बढ़ा सकते हैं. यह वेब होस्टिंग ऐसे वेबसाइट के लिए बहुत ही बढ़िया है. जो की न्यूज़ वेबसाइट, वायरल कंटेंट, इत्यादि वेबसाइट से जुड़े हुए होते हैं.

What is web server? सर्वर क्या होता है? सर्वर कितने प्रकार के होते हैं? यह जानने के लिए आप यहां पर क्लिक करके पढ़ सकते हैं.

वेब होस्टिंग कैसे काम करता है? How web hosting works?

वेब होस्टिंग जैसी सेवा प्रदान करने वाली दुनिया भर में कई सारी कंपनियां है. इन कंपनियों के वेब सर्वर दुनिया भर के कई देशों में लगाए गए हैं. आप वेब होस्टिंग खरीदते वक्त इन वेब सर्वर का चुनाव कर सकते हैं.

आपने अपने लिए होस्टिंग खरीद लिया, बस इसे अपने डोमेन से पॉइंट करना होता है. इसके लिए होस्टिंग सर्विस हर महीने या सालाना शुल्क वसूल ती है.

होस्टिंग आपके वेबसाइट के डाटा एवं फाइल्स को 24 घंटे ऑनलाइन रहती है. आपके वेबसाइट के सारे HTML page, images, document, etc वेब सर्वर मे अपलोड रहते हैं.

इस डाक्यूमेंट्स फाइल को इंटरनेट के माध्यम से जब भी कोई बंदा अपने ब्राउज़र पर आपके वेबसाइट का यूआरएल URL डालता है तो संबंधित डाटा एवं फाइल उसके ब्राउजर पर अपलोड हो जाते हैं.

सीधे शब्दों में समझें तो जब भी कोई इंटरनेट यूजर अपने वेब ब्राउजर पर वेब एड्रेस डाल कर के आप के वेबसाइट पर आएगा तो उसका कंप्यूटर उस सर्वर से कनेक्ट हो जाता है जहां आपके वेबसाइट की पोस्टिंग होती है. अब वेब सर्वर एचटीएमएल पेज और उसमें मौजूद डॉक्यूमेंट को विजिटर के ब्राउज़र पर दिखाता है.

होस्टिंग खरीदते बाद आपको किन किन बातों का ध्यान रखना चाहिए?

जब भी आप अपने ब्लॉग या वेबसाइट के लिए होस्टिंग खरीदते हैं उस समय आपको निम्नलिखित बातों का ध्यान रखना चाहिए. क्योंकि वेब होस्टिंग में कुछ फीचर्स होते हैं. जो कि आपके वेब होस्टिंग की कार्य क्षमता को बतलाता है.

  1. Bandwidth – बैंडविथ किसी भी वेबसाइट और विजिटर के बीच में एक निश्चित समय पर ट्रांसफर होने वाला डाटा की मात्रा बतलाता है. अधिक बैंडविथ से एक ही समय में 1 से अधिक लोग आपकी वेबसाइट को बिना किसी रूकावट के देख सकते हैं. वही, अगर आपकी वेबसाइट की बैंडविथ काफी कम होगी तो इसका असर आपकी वेबसाइट की स्पीड पर होता है. इस वजह से ज्यादा ट्रैफिक आने पर आपकी वेबसाइट धीमी हो जाती है.
  2. Uptime – यह फीचर एक विश्वसनीय वेब होस्टिंग देने वाली कंपनी की महत्वपूर्ण विशेषता होती है. कई कंपनी ग्रांटेड अप टाइम (granted uptime) देती है जिसका मतलब यही कि आप की वेबसाइट कम से कम 99.9% समय अपने विजिटर के लिए 24 * 7 उपलब्ध रहेगी.
  3. Storage – हर होस्टिंग अकाउंट पर आपको अपने वेबपेज, इमेजेस, डाक्यूमेंट्स इत्यादि चीजों को स्टोर करके रखना पड़ता है. इसके लिए आपके होस्टिंग पर काफी disk space होना चाहिए. आपको अपनी जरूरत का ध्यान रखते हुए अपने लिए अच्छा सा अच्छा वेब होस्टिंग का चुनाव करना चाहिए.
  4. Backup – यह भी किसी भी होस्टिंग के लिए एक महत्वपूर्ण फीचर होता है. जब आप एक वेबसाइट या ब्लॉग बनाते हैं तो कई बार ऐसा भी होता है कि आपके डाटा फाइल अचानक से डिलीट हो जाते हैं. या फिर वायरस और Malware के चलते इनफेक्टेड हो सकते हैं. ऐसे में आपका होस्टिंग प्रोवाइडर आपको आपके डाटा एवं फाइल्स का बैकअप उपलब्ध कराता हो.
  5. Email – होस्टिंग के साथ-साथ कई सारी कंपनी आपको ईमेल होस्टिंग की सुविधा भी प्रदान करती है. अगर आपके वेबसाइट के साथ-साथ आपको कस्टम ईमेल मिल जाए तो क्या कहने. इससे आगे वेबसाइट को एक ब्रांड बनाने में काफी मददगार साबित होता है. इस feature में आपको ईमेल भेजने से लेकर के ई-मेल प्राप्त करने तक की सुविधा दी जाती है.
  6. Customer support – किसी भी वेब होस्टिंग प्रोवाइडर के लिए यह एक महत्वपूर्ण फीचर होता है. होस्टिंग प्रोवाइडर किसी भी तरह के टेक्निकल सपोर्ट के लिए आपको सहायता प्रदान कर दी है. आप हमें फोन करके उनसे टेक्निकल सपोर्ट ले सकते हैं अगर आपके वेबसाइट पर किसी भी तरह की समस्या उत्पन्न होती है तो. इस तरह की सुविधा कई सारे होस्टिंग प्रोवाइडर फ्री फोन कॉल, ई-मेल भेजकर आप अपनी समस्या का निदान कर सकते हैं. इन सबके अलावा उनके पास में फोरम, टुटोरिअल आर्टिकल आदि है? इन सारी सुविधाओं से आप भविष्य में आने वाली किसी भी टेक्निकल समस्या से खुद-ब-खुद निपट सकते हैं.

उम्मीद करता हूं कि आपको हमारी यह जानकारी पसंद आई होगी. इससे संबंधित अगर आपकी कुछ सवाल है तो आप हमें कमेंट बॉक्स पर कमेंट करके जरूर बताएं. हमने अपने इस आर्टिकल में यह प्रयास किया है कि आपको वेब होस्टिंग से संबंधित सभी जानकारी एक ही जगह पर दी जा सके. इसके लिए आपको ना ही इंटरनेट पर अन्य कोई आर्टिकल देखने की जरूरत पड़ेगी.

Leave a Comment