William Shakespeare Biography Hindi – विलियम शेक्सपियर की जीवनी

William Shakespeare Biography Hindi – विलियम शेक्सपियर की जीवनी- अपने सदी के महान कवि के रूप में जाने जाते हैं. विलियम शेक्सपियर सोलवीं शताब्दी के एक जाने-माने अंग्रेजी कवि, नाटककार और अभिनेता थे.

विलियम शेक्सपियर एक ऐसे कवि है. जिन की कविताएं आज भी हमें पढ़ने और देखने को मिल जाती है. यह अंग्रेजी भाषा के सबसे महान लेखक और विश्व के पूर्व प्रख्यात नाटककार के रूप में जाने जाते हैं. इन्हें इंग्लैंड का राष्ट्रीय कवि भी कहा जाता है.

आज के हमारे इस लेख में हम William Shakespeare Biography Hindi – विलियम शेक्सपियर की जीवनी के बारे में विस्तार से जानकारी देने वाले.

William Shakespeare Biography Hindi – विलियम शेक्सपियर की जीवनी

विलियम शेक्सपियर का जन्म 26 अप्रैल 1564 को इंग्लैंड के स्ट्रैटफोर्ड में हुआ था. इनके पिता का नाम जॉन शेक्सपियर तथा माता का नाम मैरी आर्डान था. विलियम शेक्सपियर अपने भाई बहनों में सबसे बड़े थे. विलियम शेक्सपियर की बचपन की पढ़ाई वहां के स्थानीय फ्री ग्रामर स्कूल में हुई थी.

विलियम शेक्सपियर का संक्षिप्त जीवन परिचय

विलियम शेक्सपियर संक्षिप्त जीवन परिचय -Short Biography of William Shakespeare
पूरा नाम - विलियम शेक्सपियर
जन्म - 26 अप्रैल 1564 को
जन्म स्थान - इंग्लैंड के स्ट्रैटफोर्ड - अपाँन - एवन
राष्ट्रीयता - ब्रिटिश
पेशा - नाटककार, कवि और अभिनेता
प्रसिद्धि - अपने नाटक एवं कविताओं के लिए सबसे महान लेखक
पिता का नाम - जॉन शेक्सपियर
माता का नाम - मेरी शेक्सपियर
पत्नी का नाम - एनी हैथवे
भाई बहन - एडमंड शेक्सपियर, जोआन शेक्सपियर, मार्गरेट शेक्सपियर, एनी सेक्स्पीयर, रिचर्ड शेक्सपियर
बच्चे - 3 बच्चे ( सुसाना हाँल, हम्नेट शेक्सपियर और जूडिथ क़ूइनी)
मृत्यु - 23 अप्रैल 1616 मे

जॉन शेक्सपियर की बढ़ती हुई, आर्थिक कठिनाइयों के कारण विलियम शेक्सपियर को बचपन में ही अपना स्कूली पढ़ाई छोड़ कर के काम धंधा में लगना पड़ा था. काम धंधे की तलाश में उन्होंने लंदन जाने के बारे में सोचा. इसके पीछे एक कारण यह भी था कि उन्होंने जमींदार सर टर्म्स लुईस के उद्यान से एक हीरन को चोरी किया था. और कानूनी कार्रवाई से बचने के लिए उन्हें अपना निवास स्थान छोड़ना था.

लंदन आने के बाद मात्र 18 साल की उम्र में उन्होंने एनी हैथवे से शादी कर ली थी. बाद में उनके 3 बच्चे भी हुए, सुसाना और जुड़वा बच्चे हम्नेट और जूडिथ. जब विलियम शेक्सपियर का शादी हुआ था तो उनकी पत्नी एनी हैथवे उन से 8 साल बड़ी थी. विलियम शेक्सपियर की जुड़वा बच्चों में से हम्नेट की मृत्यु मात्र 11 साल की उम्र में हो गई थी. वही जूडिथ की शादी थॉमस से हो गई. इस तरह विलियम शेक्सपियर के 3 बच्चे थे.

विलियम शेक्सपियर की सेक्सुअलिटी को लेकर के कई बार इतिहासकारों के बीच में बहस भी होती रही है. इतिहासकार यह भी मानते हैं कि विलियम शेक्सपियर बाय सेक्सुअल थे. उनकी शादी के बाद उनके जीवन के बारे में जानकारी दुर्लभ हो गई है. लेकिन उन्होंने अपना ज्यादातर समय लंदन राइटिंग और अपने नाटकों के प्रदर्शन में बिताया है.

विलियम शेक्सपियर और उनके नाटक

इतिहास में दर्ज जानकारी के अनुसार विलियम शेक्सपियर ने अपने नाट्य कैरियर की शुरुआत वर्ष 1585 में की और 7 साल उसी पर काम किया था. उनके प्रदर्शन के रिकॉर्ड के अनुसार वर्ष 1592 में उन्होंने लंदन मंच पर अपने करियर की शुरुआत की थी.

विलियम शेक्सपियर अपने पहले ही नाट्य के प्रदर्शन के बाद काफी लोकप्रिय हो गए थे. इस दौरान विलियम शेक्सपियर ने आलोचकों और प्रशंसकों दोनों का ध्यान अपनी तरफ आकर्षित किया था. विलियम शेक्सपियर के रॉबर्ट ग्रीने पहले आलोचक के रूप में देखा जाता है.

रॉबर्ट ग्रीने एक विश्वविद्यालय में शिक्षक थे और शेक्सपियर के लगभग सभी नाटक को देखा करते थे. और वह शेक्सपियर के प्रयासों से काफी खफा भी थे. वर्ष 1594 के बाद से शेक्सपियर के लगभग सभी नाट्य चैंबर्लिन के आदमियों द्वारा प्रदर्शित किए गए थे.

चैंबर्लिन के सदस्यों द्वारा विलियम शेक्सपियर के नाटकों को प्रदर्शित करने के कारण वे बहुत जल्दी सर्वोच्च और फेमस हो चुके थे. इस दौरान लंदन में एक अग्रणी कंपनी इसे प्ले कर रही थी. यही वजह थी कि वर्ष 1599 में विलियम शेक्सपियर ने अपना खुद का एक थिएटर खरीदा और उसका नाम ग्लोब रखा था.

यह वह दौर था जब विलियम शेक्सपियर की प्रतिष्ठा परवान चढ़कर लोगों के मुंह में आ गई थी. विलियम शेक्सपियर की प्रतिष्ठा एक नाटककार और अभिनेता के रूप में बहुत तेजी से बढ़ती चली गई और इस हद तक बढ़ गई कि उनका नाम से ही एक मजबूत सेलिंग प्वाइंट बन गया था.

कंपनी की सफलता के कारण विलियम शेक्सपियर को वित्तीय रूप से स्थिरता और आर्थिक रूप से काफी ज्यादा मदद मिली थी. वर्ष 1603 में महारानी एलिजाबेथ की मौत के बाद, उन्हें एक साहिब पेंडेंट के साथ एक कंपनी द्वारा सम्मानित किया गया था.

इस दौरान विलियम शेक्सपियर ने अपने लिखे कुछ नाटकों के अलावा दूसरों के लिखे नाटकों में भी अभिनय किया. इनमें से कुछ नाटक है – ‘Every Man in his Humor, डी फर्स्ट फोलियो, हैमलेट, और हेनरी 6 इत्यादि शामिल है.

अपने नाट्य कैरियर में विलियम शेक्सपियर ने कुल मिलाकर के 37 नाट्य लिखे जिनमें से 15 प्रकाशित हुए थे. उन्होंने अपने सफल आउटिंग से बहुत सा धन अर्जित किया जिससे वह स्ट्रीटफोर्ड मैं एक विशाल हवेली खरीद सके. जिसका नाम उन्होंने न्यू हाउस रखा था. उसके बाद शेक्सपियर ने लंदन के बहुत सारे इलाकों में रियल स्टेट खरीदना शुरू किया. इस तरह से देखा जाए तो वह एक एंटरप्रेन्योर के रूप में परिवर्तित हो गए. यह उनका उसमें निवेश था और उन्होंने उससे अपनी आर्थिक स्थिति सुधारी. विलियम अपने नाटक में और अधिक समय के साथ अपने नाटकों में केंद्रित होना चाहते थे. इस तरह विलियम शेक्सपियर का नाटक किया के लिए चलता रहा.

विलियम शेक्सपियर और उनकी कविताएं

विलियम शेक्सपियर को उनके नाटक और उनके नाटक में अभिनय के अलावा एक अच्छे खासे अंग्रेजी भाषा के कवि के रूप में भी जाना जाता था. वर्ष 1593 से वर्ष 1594 में अपने नाक के कलाओं के साथ-साथ उन्होंने कविता लिखना भी शुरू कर दिया था.

उसी दौरान के आसपास उन्होंने दो कविताएं लिखी थी जो काफी ज्यादा प्रचलित भी हुई थी , ‘विनस एंड एडोनिस’ और ‘दि रिप ऑफ लुकरेस’ लिखी थी जिनमें से दोनों ही कविताएं हेंनरी रिआओथेस्ले साउथ एम्टन के एल को समर्पित था.

उनकी कविता “Venus and Adonis” विनस की योन उन्नति तथा एडोनीस के रिजेक्शन को दर्शाया गया था. दोनों ही कविता काफी लोकप्रिय रही थी और साथ ही इस अक्सर छापा जाता था. इसके अलावा शेक्सपियर ने ” द ऑल लवर्स कंपलीट’ और ‘दी फोनिक्स एंड द टर्टल’ कविता भी लिखी. इस कविता में एक ऐसी महिला का जिक्र था जिसकी संक्षिप्त कहानी बताई गई थी जो अपने प्रेमी द्वारा प्रलोभन के प्रयासों के कारण पीड़ा में थी. फोनिक्स कविता में एक प्रेमी की मौत के शोक को व्यक्त किया गया था.

वर्ष 1609 में, विलियम शेक्सपियर ने अपने काम को ‘ सनेटस’ का नाम दिया. उनकी कविताओं उनके कार्यों की फील्ड का आखरी कविता जो प्रिंट हुआ हुआ था.

इसमें लगभग 154 के बारे में सैनेट थे हालांकि लेखन के समय सैनेट रचनात्मक थे. यह माना जाता है कि उन सभी को शेक्सपियर ने अपने कैरियर के माध्यम से लेकिन व्यक्तिगत पाठकों के लिए लिखा था. सेनेट की खुद की एक से ली थी जो कि विशिष्ट, असामान्य और प्यार, जुनून की भावना को मानने की थी.

विलियम शेक्सपियर की मृत्यु

ऐसा माना जाता है कि विलियम शेक्सपियर की मृत्यु अपने जन्मदिन से 3 दिन पहले यानी कि 23 अप्रैल सन 1616 को हो गई थी.

उनकी मृत्यु के 3 साल पहले उनके जीवन के कुछ रिकॉर्ड्स ही जीवित थे. चर्च रिकॉर्ड के अनुसार, उन्होंने 5 अप्रैल सन 1616 को होली त्रिनिटी चर्च के चांसलर में प्रवेश किया था. यहां पर वह अपनी पत्नी और दो बेटियों के साथ थे. उनकी कब्र की शिला पर स्मृत लेख लिखा गया था कि ‘ गुड फ्रेंड, और जीसस.’ ऐसी धनी आदमी के लिए इन पत्रों की जरूरत नहीं पड़ती.

इस तरह का स्मारक केवल शेक्सपियर के काम को सम्मानित करने के लिए खड़ा किया गया था और इसके उत्तरीय दीवारों पर उनका काम था. उनके लेखन के कार्य के बारे में आधे पुतले पर लिखा था. इसके अलावा साउथ वर्ग ज्ञात एड्रिल में अंतिम संस्कार स्मारक है, और वेस्ट मिनिस्टर एबी ने उनकी समर्पित करने के लिए कवियों के कार्नर है. इसके अलावा शेक्सपियर को याद में दुनिया भर में कई मूर्तियां स्मारक स्थापित किए गए हैं. जो कि इस प्रोलिफिक कवि और नाटककार के काम की महिमा के लिए एक प्रशंसा पत्र के रूप में खड़े किए गए हैं. यहां पर क्लिक करके मदर टेरेसा के जीवन के बारे में पड़ सकते हैं.

विलियम शेक्सपियर के बारे में रोचक तथ्य – Shakespeare Fact in Hindi

  • विलियम शेक्सपियर का जन्म 26 अप्रैल व्हाट्स 1564 को स्ट्रैटफोर्ड में हुआ था.
  • शेक्सपियर को व्यापक रूप से दुनिया का सबसे महान नाटककार माना जाता है.
  • उन्होंने 38 नाटक और 154 सानेटस लिखे हैं.
  • शेक्सपियर के शिक्षा के बारे में कहा जाता है कि उन्होंने स्ट्रैटफोर्ड से किंग्स न्यू स्कूल में शास्त्रीय लेटिन भाषा में शिक्षा प्राप्त की थी.
  • “जैसिका” नाम पहली बार शेक्सपियर के नाटक ” द मर्चेंट ऑफ वेनिस” मे किया गया था.
  • विलियम शेक्सपियर के 6 जीवित हस्ताक्षर ओं के अलग-अलग वर्तनी है, जिनमें ” शेक्सपियर”, ” शेक्सपर” और ” शेक्सापियर” लिखा हुआ है. सही वर्तनी सदियों से विवादों में रही है.
  • विलियम शेक्सपियर की बेटी अनपढ़ थी.
  • विलियम शेक्सपियर जब 18 वर्ष के थे तब उन्होंने अपने से 8 साल बड़ी लड़की एनी हैथवे से शादी कर ली थी. उस समय वह 3 माह की गर्भवती भी थी.
  • शेक्सपियर की रचनाओं में एक लाख से अधिक शब्दों तक चलती है, लेकिन उनकी लिखावट में केवल 14 मौजूद है.
  • काओवाद एक बदनामी धर्म है जो जॉन ऑफ आर्ट, शेक्सपियर और महमूद की पूजा करता है.
  • विलियम शेक्सपियर ने लगभग 1700 शब्दों का आविष्कार किया जो आज हम उपयोग करते हैं.
  • विलियम शेक्सपियर ने सीधे तौर पर केवल एक बार अमेरिका का उल्लेख किया है.
  • विलियम शेक्सपियर के हस्ताक्षर अमेरिका में $5 मिलियन से अधिक मूल्य के हैं.
  • विलियम शेक्सपियर की कब्र में उसकी हड्डियों को हिलाने के खिलाफ एक अभिशाप शामिल है.
  • विलियम शेक्सपियर कभी भी अपना नाम ठीक से नहीं बताते थे, अक्सर अपने नाम ” वेल शेप” पर हस्ताक्षर करते थे.
  • जब विलियम शेक्सपियर की मृत्यु हुई थी वह उस समय बहुत ही अमीर व्यक्ति थे.

विलियम शेक्सपियर के सुविचार

विलियम शेक्सपियर द्वारा कई सारे महान कथन और कहावतें कही गई है. जिसकी एक छोटी सी सूची हमने नीचे बनाई है

विलियम शेक्सपियर के विचार
विलियम शेक्सपियर के अनमोल विचार
  • ” अगर आप महान काम करना चाहते हैं, तो नई गलतियां करने से मत डरो.”
  • “भगवान ने इंसान को एक ही चेहरा दिया है, लेकिन इंसान अपने लिए कई नए मुखोटे दें बना लेता है.”
  • “हम सब जानते हैं कि हम कौन हैं? और क्या है, लेकिन हम यह नहीं जानते कि हम क्या बन सकते हैं और क्या कर सकते हैं? “
  • ” आप एक किरदार हैं और यह दुनिया एक रंगमंच. इस पर आपको अपने जीवन में कई किरदार निभाने पड़ते हैं”.
  • “यदि आप किसी उम्मीद से उम्मीद रखे हैं, तो एक ना एक दिन आपको दर्द जरूर होगा – क्योंकि उम्मीद एक ना एक दिन टूटेगी, और जब यह टूटती है तो बहुत दर्द होता है.”
  • ” आप अपने कर्म से पहचाने जाते हैं. नाम में क्या रखा है. गुलाब को उसके रंग और खुशबू से पहचाना जाता है.”
  • ” जैसे अंधेरे में एक छोटी सी मोमबत्ती भी दूर तक प्रकाश भी बिखेर देती है, उसी तरह इस भरी दुनिया में एक अच्छा काम दूर तक चमकता है”.
  • ” बुद्धिमान खुद को मूर्ख और मूर्ख खुद को होशियार समझते हैं”.
  • ” यह बात ज्यादा जरूरी है कि हम अपने आपसे सच्चे और ईमानदार बने रहें.”
  • “अपनी वाणी पर जरा ध्यान दीजिए, नहीं तो यह कि आप को ले डूबेगी.”
  • “यदि आप समय बर्बाद करते हैं, तो उस समय बाद में आपको बर्बाद कर देगी”.
  • ” 1 मिनट देरी से आने से अच्छा है 3 घंटे जल्दी आ जाइए.”
  • ” डरपोक अपनी मृत्यु से पहले कई बार मरते हैं; बहादुर मौत का स्वाद और कभी नहीं बस एक बार चखते है”.
  • ” खाली बर्तन ही सबसे अधिक आवाज करते हैं.”
  • ” सभी से प्यार करो, कुछ पर विश्वास करो, किसी के साथ गलत मत करो.”

Leave a Comment